शरीर की सुंदरता और खूबसूरती के लिए मालिश

शरीर की सुंदरता और खूबसूरती के लिए मालिश

जैसा कि हम जानते हैं कि स्वस्थ शरीर स्वस्थ जीवन की कुंजी है। इसलिए अगर हमारा शरीर फिट और स्वस्थ रहेगा तो आप जीवन की हर खुशी पा सकते हैं, इसलिए जीवन में सबसे पहले स्वस्थ शरीर की जरूरत होती है और हमें अपने शरीर को स्वस्थ और सुंदर रखने के लिए इसका ख्याल रखना होगा। इसलिए हमें अपने शरीर पर ध्यान देना बहुत जरूरी है।तो दोस्तों इस पोस्ट में हम जानने की कोशिश करते हैं कि शरीर को स्वस्थ कैसे रखा जाए, शरीर की खूबसूरती और सुंदरता के लिए मालिश क्यों जरूरी है।

शरीर की सुंदरता और खूबसूरती के लिए मालिश

मालिश भी शरीर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य है, मालिश करने से शरीर में रक्त संचार ठीक रहता है। अच्छा रहता है, शरीर की मांसपेशियां रिलैक्स रहती हैं और हमारे शरीर के रोमछिद्र भी खुले रहते हैं। ऐसा करके हम एक स्वस्थ शरीर का निर्माण कर सकते हैं और खुद को स्वस्थ और खूबसूरत रख सकते हैं।

सुंदरता के लिए केवल चेहरे की खूबसूरती ही काफी नहीं है, चेहरे के साथ-साथ अगर पूरा शरीर भी सुडौल और सुंदर हो तो महिला की खूबसूरती में चार चांद लग जाते हैं।
शरीर के सभी अंगों को सुडौल बनाने के लिए मालिश बहुत फायदेमंद होती है। मालिश का सही लाभ तभी हो सकता है जब मालिश के साथ-साथ संतुलित आहार, वसा रहित आहार और थोड़ा व्यायाम भी नियमित रूप से किया जाए।

तैलीय त्वचा के घरेलू उपचार

यह भी जानें: फेस पर ग्लो कैसे लाए टिप्स इन हिंदी|ग्लोइंग स्किन पाने के लिए अपनाएं ये 6 नेचुरल उपाय

चेहरे पर रूखी और बेजान त्वचा का इलाज कैसे करें

रूखी त्वचा के घरेलू उपचार

मालिश से कूल्हों और जांघों को सही आकार मिल सकता है। मसाज की उपयोगिता को विदेशों में व्यापक रूप से स्वीकार किया जा रहा है। जिस तरह खूबसूरती निखारने के लिए हर जगह ब्यूटी पार्लर नजर आते हैं, उसी तरह विकसित देशों में मसाज के लिए खास मसाज पार्लर बनाए गए हैं।

भारत के बड़े शहरों में हेल्थ क्लब भी हैं, जहाँ मसाज की सुविधा उपलब्ध है। भारत में मसाज का चलन इतना अधिक नहीं है और न ही लोगों को इसकी सही जानकारी है। लेकिन शरीर के लिए मालिश की उपयोगिता को देखते हुए यह जरूरी है कि हम इसे जानें। इसे ठीक से समझकर घर में भी मालिश की जा सकती है। यह स्वयं या किसी अन्य द्वारा भी किया जा सकता है। मालिश से रक्त में वसा घुल जाती है, जिसका उपयोग ऊर्जा देने के लिए किया जाता है।

मसाज करने से उस स्थान पर रक्त प्रवाह बढ़ जाता है। और अतिरिक्त चर्बी खून में मिल जाती है और शरीर सुडौल बन जाता है। मालिश से त्वचा भी कांतिमय हो जाती है। यदि जोड़ों पर मालिश की जाए तो जोड़ों में जमा खून और अन्य अपशिष्ट पदार्थ खून में घुल जाते हैं और जोड़ खुल जाते हैं। जो चलने-फिरने, उठने-बैठने से होने वाले जोड़ों के दर्द से राहत दिलाता है। शरीर की अपनी मांसपेशियां सुचारु रूप से काम करने लगती हैं।

शरीर की अतिरिक्त चर्बी को कम करने के लिए मालिश के कई तरीके हैं। इसमें हर विधि का प्रयोग शरीर के अंगों के अनुसार अलग-अलग होता है। इन तरीकों को ठीक से समझना जरूरी है क्योंकि गलत तरीके का इस्तेमाल करने से फायदा नहीं बल्कि नुकसान हो सकता है।

मालिश की मुख्य विधियों में शरीर को हिलाना, रोल करना, रगड़ना, मुक्का मारना, थपथपाना शामिल रहता है।

यह भी पढ़ें: कैसा है आपका भविष्य, कैसा होगा आपका जीवन

मालिश के नियम:

मालिश करने से पहले शरीर को साफ सुथरा कर लेना चाहिए। व्यक्ति मालिश करने से पहले अपनी पूरी आराम की स्तिथि में होना चाहिए।

मालिश के लिए नारियल, जैतून या सरसों का तेल फायदेमंद होता है। तेल की थोड़ी सी मात्रा ही काफी है. घर्षण के प्रभाव को कम करने के लिए ही तेल का प्रयोग किया जाता है।

व्यक्ति को शांत रहना चाहिए और मालिश के लिए पूरी तरह तैयार रहना चाहिए। किसी भी प्रकार का क्रोध, तनाव, चिड़चिड़ापन आदि मन में नहीं होना चाहिए। मांसपेशियों में इस तनाव के कारण मालिश का असर ठीक नहीं हो पाता है।

अगर आप मसाज खुद कर रहे हैं तो बैठकर करें। खड़े होकर या लेटकर मैसेज न करें.

मालिश करते समय हाथों या उंगलियों को मोड़ना लाभकारी नहीं होता है, मालिश धीरे-धीरे दबाव डालते हुए करनी चाहिए।

मालिश लयबद्ध तरीके से करनी चाहिए, दबाव उतना ही डालना चाहिए जितना शरीर सहन कर सके।

मालिश करने वाले के हाथ साफ होने चाहिए और उनके नाखून कटे होने चाहिए, यदि मालिश किसी अन्य के द्वारा की जाती है तो शव को जमीन पर बिछाकर उस पर लेटाकर मालिश करें।

मालिश केवल आधा या पौना घंटा ही करें। कमजोर लोगों के लिए यह समय कम रखें।

खाना खाने के तुरंत बाद मालिश न करें, जहां तक संभव हो मालिश सुबह नहाने से पहले और नहाने के बाद करनी चाहिए। अगर सुबह नहीं हुई है, तो रात के खाने से पहले भी मालिश की जा सकती है।

Latest 2023 Best शायरी for Love|खतरनाक न्यू लव शायरी

मसाज कई तरह से की जाती है

ठंडी मालिश, गर्म मालिश, तेल मालिश, सूखी मालिश, पाउडर मालिश। बिजली उपकरणों द्वारा मालिश जो की बाजार में उपलब्ध हैं। लेकिन मालिश हाथों से करना सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है।

शरीर की अतिरिक्त चर्बी को हटाने के लिए ठंडी मालिश बहुत सार्थक है। तेल मालिश से नीचे से ऊपर यानी हृदय तक की नसों में रक्त संचार बढ़ता है।

लेकिन अधिक चर्बी वाले स्थान पर ऊपर से नीचे यानी हृदय से नीचे की ओर ठंडी मालिश करनी चाहिए। इससे धमनियों में रक्त संचार बढ़ता है। यह एक सिद्धांत है कि जिस स्थान पर इसे ठंडा किया जाएगा, गर्म रक्त तेजी से आएगा और उस स्थान को गर्म कर देगा। इस प्रकार इस अंग को अतिरिक्त शक्ति मिलेगी, विकार आदि दूर होंगे।

ठंडी मालिश:

सबसे पहले एक बर्तन में पानी भरें, एक रोएंदार तौलिये को पानी में भिगो लें और एक तौलिये को सूखाकर रख लें।
भीगे हुए तौलिये को एक हाथ की हथेली पर लपेट लें। अब मालिश करने वाले व्यक्ति को पेट के बल लिटा दें। फिर तौलिए को दूसरे हाथ की मदद से पीठ पर रगड़ें और दाएं-बाएं रगड़ें। पहले धीरे-धीरे, फिर बाद में तेजी से रगड़ते हुए, गति बढ़ाते हुए। याद रखें मालिश लयबद्ध तरीके से करें। बहुत तेजी से गति ना करें। कुछ देर बाद तौलिया गर्म हो जाएगा, इसे पानी में भिगोकर हाथों में लपेट लें और फिर मालिश करें।

अब ऊपर से नीचे की ओर आते हुए पूरी पीठ पर भी ऐसा ही करें। पीठ और कमर की मालिश करने के बाद नितंबों, जांघों और पिंडलियों की मालिश करें। तौलिया गर्म होने पर तौलिये को दोबारा पानी में भिगोकर निचोड़ लें। अंत में पूरे शरीर को सूखे तौलिये से पोंछ लें।

ठंडी मालिश बेहद असरदार होती है। शरीर को आकर्षक बनाने के लिए आजकल विदेशों में इसका खूब चलन है।

ठंडी मालिश शरीर को उत्तेजित करती है, चर्बी कम करती है। धमनियों की कार्य क्षमता बढ़ती है। शरीर की मांसपेशियों का तनाव दूर होता है।

उसके बाद नहाएं और आराम करें।

तेल मालिश :

शरीर की चर्बी हटाने के लिए तेल मालिश ज्यादा फायदेमंद नहीं होती है। त्वचा को तेल की खुराक प्राप्त होती है, जिससे चर्बी बढ़ती है।
इसलिए तेल मालिश तभी उपयोगी साबित होती है जब तेल की मात्रा बहुत कम ली जाए। यह मसाज नीचे से ऊपर की ओर की जाती है। पहले पैरों की मालिश करें और फिर शरीर के ऊपरी हिस्सों की।

सूखी मालिश:

इसमें पानी या तेल का प्रयोग नहीं किया जाता है बल्की इसमें टैल्कम पाउडर का इस्तेमाल किया जाता है। टैल्कम पाउडर का उपयोग गठन को कम करने के लिए किया जाता है। टैल्कम पाउडर की मदद से शरीर पर हाथ आसानी से फिसलता है।

साथियों आपने इस पोस्ट से शरीर की सुंदरता और खूबसूरती के लिए मालिश कितनी जरुरी है जाना। अपने जीवन में शरीर और चेहरे की सुंदरता को बनाए रखने में मालिश बहुत लाभकारी हो सकती है। नियमित मालिश से आप तनाव से दूर रह सकते है, मांसपेशिययों को आराम मिलने से उनमें रक्तः का संचार बहुत अच्छा रहता है, जिसका सीधा असर हमारे चेहरे की रक्तः कोशिकाओं पर पड़ता है। चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़ती, चेहरा चिकना, कसा हुआ और ग्लोइंग बना रहता है।

Read Alao:

Lotus Herbals beauty cream and serum

Mamaearth beauty cream and serum

Other Articles:

UrbanBotanics 2.5% Hyaluronic एसिड सीरम के फायदे

Lakme एब्सोल्यूट परफेक्ट रेडियेंस स्किन लाईटनिंग सीरम के फायदे

Rivela Dermascience SPF 50 PA+++ Mineral सनस्क्रीन लोशन के फायदे

Matrix Biolage 6 इन 1 स्मूद प्रूफ गहरा स्मूदिंग सिरम के फायदे

चेहरे पर सीरम लगाने से क्या फायदा होता है?

झुर्रियों के लिए क्रीम, जो आपके चेहरे को जवां बना दे।

आयुर्वेदिक एंटी एजिंग क्रीम,रिंकल्स को ख़त्म करें

एंटी एजिंग के घरेलू नुस्खे

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top